दूसरे बच्चे की प्लानिंग से पहले जानें ये 6 बातें

Last Updated on

बेबी प्लानिंग आज के समय में बहुत जरूरी है। खासकर तब जब आप दूसरे बच्चे के बारे में सोच रहे हो। वैसे तो आजकल महंगाई और अधिक व्यस्तता की चलते माता-पिता एक ही बच्चा प्लान करते हैं, लेकिन पहले बच्चे को अकेला देखकर दूसरे बेबी के बारे में सोचने लग जाते हैं। दूसरा बेबी करने की वजह चाहे जो भी हो, लेकिन ऐसा कुछ बातों को ध्यान में रखकर ही करना चाहिए। जीवन में संतुलन बनाए रखने और बच्चे की जिम्मेदारी लेने के लिए इन पर गौर करना जरूरी है।

1. क्या आप आर्थिक रूप से तैयार हैं?

प्रेगनेंसी के बाद महिला के टेस्ट, दवाइयों और डिलीवरी आदि के खर्चे के बारे में सोचना जरूरी है। साथ ही नन्हे मेहमान की देखभाल पर होने वाले खर्चे के लिए भी तैयार होना होगा। बच्चे के बड़े होने पर उसकी जरूरतें व स्कूल की फीस जैसी सभी चीजों के लिए बैंक बेलैंस जरूरी है। इसलिए, आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखकर ही दूसरा बेबी प्लान करें।

2. बच्चों के बीच उम्र का अंतर

पहले और दूसरे बच्चे की बीच लगभग 3 साल या इससे अधिक का अंतर होना जरूरी है। यह इसलिए जरूरी है, क्योंकि अगर आपका पहला बच्चा छोटा है, तो आप दोनों बच्चों का ठीक से ख्याल नहीं रख पाएंगे।

3. पहले बच्चे से भी लें राय

पढ़ने में थोड़ा अजीब लगे, लेकिन यह जरूरी है। अगर आपका बच्चा थोड़ा बड़ा है, तो एक बार उससे जरूर पूछें कि वह घर में नए सदस्य के स्वागत के लिए तैयार है या नहीं। कई बार ऐसा होता है कि घर में नए बेबी के आने पर वह अपने मां के पास जाने से झिझकता है। कई बार बच्चे के मन में यह भाव आ जाता है कि अब परिवार वाले उसके छोटे भाई/बहन को ही प्यार करते हैं। इससे वह हीनभावना का शिकार हो जाता है। इसलिए, पहले बच्चे का मानसिक रूप से तैयार होना भी जरूरी है।

4. महिला का स्वास्थ्य और उम्र

मां अगर स्वस्थ हो, तभी वह स्वस्थ बच्चे को जन्म देती है। ऐसे में दूसरी बार गर्भधारण करने से पहले डॉक्टर से जांच जरूर कराएं। अगर महिला शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह स्वस्थ है, तभी दूसरी प्रेगनेंसी का निर्णय लें। साथ ही उम्र का भी ख्याल रखें, 35-40 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए गर्भधारण करना जोखिम भरा हो सकता है।

5. पति-पत्नी दोनों की रजामंदी है जरूरी

Approval of both husband and wife is necessary
Image: Shutterstock

दूसरे बच्चे की प्लानिंग के लिए पति और पत्नी दोनों का तैयार होना जरूरी है, क्योंकि गर्भावस्था के दौरान एक दूसरे का साथ और सहयोग की आवश्यकता होती है। यह तभी संभव हो सकता है, जब दोनों दूसरे बच्चे के लिए तैयार हों।

6. परिवार का सहयोग

अगर आप जॉइंट फैमिली में रहते हैं, तो एक बार परिवार से राय लेना भी सही निर्णय हो सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि गर्भवती महिला को पति के साथ-साथ घर में रहने वाले सभी सदस्यों की मदद की आवश्यकता होती है।

गर्भावस्था पहली हो या दूसरी हर मां के लिए महत्वपूर्ण होती है। इसलिए, सभी पहलुओं पर गौर करने के बाद ही दूसरा बेबी प्लान करें। हां, ध्यान रहे कि दूसरी गर्भावस्था में भी वो सभी सावधानियां बरतनी जरूरी हैं, जिसका ध्यान पहली गर्भावस्था में रखा था। साथ ही समय-समय पर डॉक्टर से सलाह भी लेते रहें।

Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
    Latest Articles