Written by , (शिक्षा- एमए इन मास कम्युनिकेशन)

बिगड़े खान-पान और अनियमित दिनचर्या की वजह से अधिकतर लोग मोटापे का शिकार हो जाते हैं। यह एक ऐसी समस्या है, जो कई खतरनाक और गंभीर बीमारियों को न्यौता देने का काम करती है। जानकारों की मानें तो आज देश में अधिकांश लोग इस समस्या से जूझ रहे हैं। लेकिन क्या आपको मालूम है कि एक छोटा सा बदलाव आपको इस गंभीर बीमारी से छुटकारा दिला सकता है। नहीं समझें! हम बात कर रहे हैं, ग्रीन कॉफी की। वजन घटाने के लिए ग्रीन टी के बारे में तो बहुत लोगों ने सुना होगा, लेकिन ग्रीन कॉफी से वेट लॉस कैसे किया जाए? स्वस्थ रहने में यह कैसे मददगार साबित हो सकती है? स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम इसी बारे में बताएंगे।

उपयोग और इसे लेने का सही समय जानने से पहले यह समझ लेते हैं कि वजन घटाने के लिए ग्रीन कॉफी कैसे मदद कर सकती है।

वजन घटाने में ग्रीन कॉफी क्यों फायदेमंद है – Benefits of Green Coffee for Weight Loss in Hindi

वजन घटाने के लिए ग्रीन कॉफी का सेवन करने से वजन कम करने में मदद मिलती है। इस बात को समझने के लिए हमें इसमें पाए जाने खास तत्व और उनकी कार्यप्रणाली को समझना होगा। इसे जानने से पहले हमें यह समझ लेना चाहिए कि सामान्य कॉफी की जगह ग्रीन कॉफी को ही वजन घटाने में ही मददगार क्यों माना जाता है।

दरअसल, सामान्य तौर पर जो कॉफी हम उपयोग में लाते हैं, वह प्रोसेस की जाती है, यानी उसे भून कर उपयोग के लिए लाया जाता है। इससे उसका स्वाद तो काफी लुभावना हो जाता है, लेकिन उसमें मौजूद पोषक तत्वों में कमी आ जाती है। इसलिए वजन घटाने के लिए ग्रीन काफी का उपयोग करने की ही सलाह दी जाती है। बता दें ग्रीन कॉफी, सामान्य कॉफी का ही प्राकृतिक रूप है, जिसे किसी भी तरह प्रोसेस नहीं किया जाता, बल्कि सीधे सेवन के लिए उपयोग किया जाता है। अब जान लेते हैं उन अहम तथ्यों के बारे में जो इसे वजन कम करने का एक बेहतरीन विकल्प बनाते हैं।

1. इंसुलिन को सक्रिय करता है

दरअसल, इसमें काफी अधिक मात्रा में क्लोरोजेनिक एसिड पाया जाता है, जो एंटी-इन्फ्लामेट्री, कार्डियोवैस्कुलर प्रोटेक्टिव (हृदय संबंधित बीमारियों से बचाने वाला) और इंसुलिन को सक्रिय करने वाले गुणों से समृद्ध होता है (1)वहीं इसमें सामान्य कॉफी की तुलना में कैफीन की भी काफी कम मात्रा पाई जाती है। इस कारण कैफीन से होने वाले दुष्प्रभाव ग्रीन कॉफी के सेवन में नहीं दिखते। यही वजह है कि इसे वजन घटाने के लिए एक उत्तम औषधि के रूप में इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। शोध में इस बात का भी जिक्र मिलता है कि ग्रीन कॉफी का सेवन मोटापे के लिए जिम्मेदार जीन को कम करने और इंसुलिन की सक्रियता को बढ़ाने का काम करता है (2)

2. वसा के अवशोषण को रोकता है

एक अन्य शोध में इस बात की पुष्टि की गई है कि ग्रीन कॉफी में पाया जाने वाला क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic Acid) वसा के अवशोषण को भी रोक सकता है। साथ ही यह लिवर को सक्रिय कर उपापचय (Metabolism) प्रक्रिया को बढ़ावा देता है, जिससे शरीर पर वसा जमा नहीं हो पाती (3), जो मोटापे की समस्या का एक बड़ा जोखिम कारक माना जाता है।

3. शुगर को खून में घुलने से रोकता है

विशेषज्ञों के मुताबिक, ग्रीन कॉफी में क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic Acid) के साथ एक और खास तत्व ट्राइगोनलाइन (Trigonelline) भी पाया जाता है (1) (4)। यह दोनों तत्व संयुक्त रूप से न केवल इंसुलिन को सक्रीय करके ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित करते हैं, बल्कि ब्लड में शुगर मिलने की प्रक्रिया को भी धीमा करने में सहायक माने जाते हैं (5)

4. मोटापे से संबंधित हार्मोन को दबाता है

इतना ही नहीं ग्रीन कॉफी में पाया जाने वाला क्लोरोजेनिक एसिड उपापचय (Metabolism) की प्रक्रिया को सुधारने के साथ मोटापे से संबंधित हार्मोन को भी संतुलित करने में सक्षम पाया गया है (1), (6)

5. ट्राइग्लिसराइड और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है

एक अध्ययन के अनुसार पाया गया कि क्लोरोजेनिक एसिड शरीर में प्लाज्मा ट्राइग्लिसराइड (फैट का एक प्रकार) और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करने में भी सहायक साबित हो सकता है, जो कि मोटापे से संबंधित जोखिम कारकों में से एक है (7)

ग्रीन कॉफी से वेट लॉस से संबंधित फायदे जानने के बाद अब हम वजन घटाने के लिए ग्रीन कॉफी के उपयोग के बारे में बात करेंगे।

मोटापा कम करने के लिए ग्रीन कॉफी का उपयोग कैसे करें?

वजन घटाने के लिए ग्रीन कॉफी को कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। उनमें से कुछ प्रभावी तरीकों के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।

1. ग्रीन कॉफी

 Green Coffee
Image: Shutterstock
सामग्री
  • पिसी ग्रीन कॉफी बीन्स (एक छोटा चम्मच)
  • शहद स्वादानुसार (वैकल्पिक)
इस्तेमाल का तरीका
  • सामान्य तौर पर ग्रीन कॉफी को उपयोग में लाने के लिए आप इसके प्राकृतिक बीन्स को लें और उन्हें ग्राइंडर की मदद से पीस लें।
  • अब एक छोटा चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर को एक कप गर्म पानी में 5 से 10 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर उसे अच्छे से मिक्स करें।
  • आप चाहे तो मिठास के लिए इसमें शहद मिला सकते हैं, वरना इसकी कोई विशेष आवश्यकता नहीं होती है।

2. पुदीने की पत्तियों के साथ ग्रीन कॉफी

Green coffee with mint leaves
Image: Shutterstock

अगर आप ग्रीन कॉफी के एक ही स्वाद से ऊब गए हैं, तो फ्लेवर बदलने के लिए इसमें पुदीने की पत्तियों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

सामग्री
  • पिसी ग्रीन कॉफी बीन्स (एक छोटा चम्मच)
  • चार-पांच पुदीने की पत्तियां
  • शहद स्वादानुसार (वैकल्पिक)
इस्तेमाल का तरीका
  • एक कप गर्म पानी लें।
  • इसमें एक छोटा चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर और साथ में पुदीने की पत्तियों को भी डालें।
  • अब इसे 5 से 10 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर उसे अच्छे से मिक्स करें।
  • आप चाहे तो मिठास के लिए इसमें शहद मिला सकते हैं।
कैसे है लाभदायक

ग्रीन कॉफी का उपयोग तो वजन घटाने में मददगार होता ही है। वहीं इसके साथ पुदीने की पत्तियों का इस्तेमाल इसके प्रभाव को और भी ज्यादा बढ़ा देता है। कारण यह है कि पुदीना में भी ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के गुण पाए जाते हैं (8)

3. दालचीनी के साथ ग्रीन कॉफी

 Green Coffee with Cinnamon
Image: Shutterstock
सामग्री
  • पिसी ग्रीन कॉफी बीन्स (एक छोटा चम्मच)
  • एक इंच दालचीनी का टुकड़ा
  • शहद स्वादानुसार (वैकल्पिक)
इस्तेमाल का तरीका
  • एक कप गर्म पानी लें और उसमें दालचीनी डाल कर रात भर के लिए छोड़ दें।
  • सुबह इस पानी को गर्म करें और एक छोटा चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर डालें।
  • अब इसे 5 से 10 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर उसे अच्छे से मिक्स करें।
  • आप चाहे तो मिठास के लिए इसमें शहद मिला सकते हैं, वरना इसकी कोई खास आवश्यकता नहीं होती है।
कैसे है लाभदायक

विशेषज्ञों के मुताबिक, दालचीनी स्वयं मोटापे को नियंत्रित करने में असरकारक मानी जाती है। यह उपापचय (Metabolism) की प्रक्रिया में सुधार के साथ ब्लड शुगर को भी कम करती है। इस कारण ग्रीन कॉफी के साथ इसका उपयोग वजन घटाने की रफ्तार को तेज कर सकता है (9)

4. अदरक के साथ ग्रीन कॉफी

Green Coffee with Ginger
Image: Shutterstock
सामग्री
  • पिसी ग्रीन कॉफी बीन्स (एक छोटा चम्मच)
  • एक टुकड़ा अदरक (कुटा हुआ)
  • शहद स्वादानुसार (वैकल्पिक)
इस्तेमाल का तरीका
  • एक कप गर्म पानी लें।
  • इसमें एक छोटा चम्मच कॉफी पाउडर डालें। साथ ही अदरक भी डालें।
  • अब इसे पांच से 10 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर उसे अच्छे से मिक्स करें।
  • आप चाहें तो मिठास के लिए इसमें शहद मिला सकते हैं, वरना इसकी कोई विशेष आवश्यकता नहीं होती है।
कैसे है लाभदायक

दालचीनी के समान ही अदरक में भी बल्ड शुगर को कम करने, उपापचय प्रक्रिया को मजबूत करने और सीधे तौर पर मोटापे की समस्या को दूर करने वाले गुण पाए जाते हैं (10)। इस कारण ग्रीन कॉफी के साथ इसका उपयोग काफी लाभकारी सिद्ध हो सकता है।

5. हल्दी के साथ ग्रीन कॉफी

 Green Coffee with Turmeric
Image: Shutterstock
सामग्री
  • पिसी ग्रीन कॉफी बीन्स (एक छोटा चम्मच)
  • एक टुकड़ा हल्दी (कुटी हुई)
  • शहद स्वादानुसार (वैकल्पिक)
इस्तेमाल का तरीका
  • एक कप गर्म पानी लें।
  • इसमें एक छोटा चम्मच कॉफी पाउडर और कुटी हुई हल्दी डालें।
  • अब इसे पांच से 10 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर उसे अच्छे से मिक्स करें।
  • अब तैयार कॉफी को छान के अलग कर लें।
  • आप चाहें तो मिठास के लिए इसमें शहद मिला सकते हैं।
कैसे है लाभदायक

हल्दी खुद ही औषधीय गुणों से भरपूर मानी जाती है। वहीं शोध में भी इस बात की पुष्टि की गई है कि हल्दी का नियमित सेवन मोटापे की समस्या को दूर करने में सहायक हो सकता है (11)। ऐसे में यह कहना बिलकुल भी गलत नहीं होगा कि ग्रीन कॉफी के साथ हल्दी वजन घटाने की प्रक्रिया को अत्यधिक प्रभावी बना सकती है।

वजन घटाने में ग्रीन कॉफी पीने का सही समय – When to Drink Green Coffee for weight loss in Hindi

सही समय पर ग्रीन कॉफी का इस्तेमाल मोटापे की समस्या में अतिप्रभावशाली परिणाम देता है। आइए कुछ बिन्दुओं के माध्यम से इसे जानते हैं।

  • सुबह व्यायाम से पहले या बाद में इसे लेना लाभकारी माना जाता है।
  • सुबह नाश्ते के साथ आप इसे उपयोग में ला सकते हैं।
  • दोपहर के भोजन से पहले इसका इस्तेमाल लाभकारी माना जाता है।
  • शाम के नाश्ते के बाद भी इसे उपयोग में लाया जा सकता है।

अब तो आप अच्छे से ग्रीन कॉफी के बारे में जान गए होंगे। साथ ही आपको यह भी पता चल गया होगा कि वजन घटाने के लिए ग्रीन कॉफी किस प्रकार फायदेमंद साबित हो सकती है। ग्रीन कॉफी से वेट लॉस के अलावा और क्या-क्या स्वास्थ्य संबंधी लाभ मिलते हैं, इसके बारे में भी आपको लेख में विस्तार से बताया गया है। ऐसे में अगर आप भी इसके चमत्कारिक फायदों से प्रभावित हुए हैं और इसे नियमित उपयोग में लाने की सोच रहे हैं, तो जरूरी है कि पहले लेख में इससे संबंधित सभी बातों को अच्छे से जान लें। आशा है कि स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं को हल करने में यह लेख आपके बड़े काम आएगा। इसके अलावा, इस संबंध में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
Anuj Joshi

Anuj Joshiचीफ एडिटर

अनुज जोशी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से बीकॉम और कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। अनुज को प्रिंट व ऑनलाइन मीडिया जगत में काम करते हुए करीब 11 वर्ष हो गए हैं। इन्हें एडिटिंग व लेखन का अच्छा खासा अनुभव है। हिंदी के कई प्रमुख अखबारों में विभिन्न विषयों पर इनके लेख प्रकाशित हो चुके हैं। मुख्य रूप...read full bio