Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

भारतीय रसोई को औषधियों का खजाना कहा जाए, तो गलत नहीं होगा। रसोई में उपयोग होने वाले मसाले खाने का रंग और स्वाद बेहतर करने के साथ ही स्वास्थ्य की छोटी-बड़ी समस्या से निपटने में मददगार हो सकते हैं। उन्हीं मसालों में से एक हल्दी भी है। हल्दी के साथ ही हल्दी का पानी भी सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें हल्दी के लगभग सभी गुण मौजूद होते हैं, जो इसे सेहत के लिए लाभदायक बनाते हैं। इसी वजह से स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम हल्दी वाला पानी पीने के फायदे बताएंगे। साथ ही हल्‍दी का पानी बनाने की विधि और हल्दी पानी के नुकसान की जानकारी भी देंगे।

स्क्रॉल करें

आर्टिकल में सबसे पहले हम हल्दी वाला पानी पीने के फायदे बता रहे हैं।

हल्‍दी पानी पीने के फायदे – Haldi Ka Pani Peene Ke Fayde in Hindi

माना जाता है कि जो गुण हल्दी में पाए जाते हैं, वो हल्दी पानी में भी मौजूद होते हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि हल्दी पानी पीने के फायदे कई हो सकते हैं। हल्दी में मौजूद गुणों के आधार पर हम लेख में आगे हल्‍दी का पानी पीने के फायदे बता रहे हैं। बस ध्यान दें कि हल्दी पानी किसी गंभीर बीमारी का इलाज नहीं हो सकता है। हां, यह स्वस्थ जीवन शैली का एक हिस्सा बन सकता है और बीमारियों के जोखिम के साथ ही उसके लक्षण को कम करने में सहायक हो सकता है।

1. मधुमेह की समस्या

रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ने से मधुमेह की समस्या हो सकती है। इस परेशानी में हल्दी वाला पानी पीने के फायदे हो सकते हैं। एक रिसर्च के अनुसार, हल्दी में मौजूद करक्यूमिन कंपाउंड रक्त शर्करा के स्तर और सीरम लिपिड को कम करने वाला एंटीडायबिटिक प्रभाव दिखा सकता है (1)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि हल्दी और हल्दी पानी में मौजूद करक्यूमिन से मधुमेह की समस्या कुछ हद तक नियंत्रित हो सकती है।

2. हृदय को स्वस्थ रखे

हल्दी का पानी पीने से हृदय स्वास्थ्य बेहतर हो सकता है। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन में भी कहा गया है कि हल्दी कार्डियोप्रोटेक्टिव यानी हृदय को स्वस्थ रखने वाला प्रभाव प्रदर्शित कर सकता है। इससे हृदय संबंधी बीमारियों से बचाने में मदद मिल सकती है (2)। एक अन्य शोध के अनुसार, हल्दी में पाए जाने वाला करक्यूमिन दिल के दौरे का खतरा कुछ हद तक कम कर सकता है (3)। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि हल्दी का पानी हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

3. अल्सर के जोखिम में

अल्सर की समस्या में भी हल्दी के पानी का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। रिसर्च के अनुसार, हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन कई तरह के प्रभाव दिखाता है, जिनमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट इफेक्ट भी शामिल हैं। इन दोनों प्रभाव के कारण हल्दी पानी अल्सर का जोखिम कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, करक्यूमिन में एंटी अल्सरोजेनिक प्रभाव भी होता है, जो अल्सर की समस्या में फायदेमंद हो सकता है (4)।

4. सर्दी में

हल्दी के पानी का उपयोग सामान्य सर्दी की समस्या में भी किया जा सकता है। बताया जाता है कि हल्दी को दूध या पानी में मिलाकर लिया जाए, तो यह नुस्खा सामान्य सर्दी में असरदार साबित हो सकता है (2)। इससे संबंधित एक रिसर्च में इस बात की पुष्टि हुई है कि हल्दी में मौजूद करक्यूमिन कंपाउंड श्वसन संबंधी विकार में फायदेमंद हो सकता है। सर्दी को भी श्वसन संबंधी विकार ही माना जाता है, इसलिए यह इसमें असरदार हो सकता है (3)।

5. तनाव को कम करे

तनाव की अवस्था से राहत दिलाने में भी हल्दी के पानी का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। जानवरों पर किए गए एक रिसर्च से पता चला है कि हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन अवसाद को कम कर सकता है। इसके अलावा, यह क्रोनिक (लंबे समय से चले आ रहे) स्ट्रेस की अवस्था में भी फायदेमंद हो सकता है (5)। दरअसल, हल्दी में मौजूद करक्यूमिन के एंटीइंफ्लामेटरी प्रभाव को अवसाद से राहत दिलाने में मददगार माना जाता है। इसके अलावा, हल्दी का एंटी एंजायटी प्रभाव भी चिंता को दूर करके तनाव की स्थिति में फायदेमंद हो सकता है (6)।

6. अल्जाइमर में

अल्जाइमर एक मस्तिष्क संबंधी समस्या है, जिसमें लोग धीरे-धीरे अपनी याददाश्त खोने लगते हैं (7)। अल्जाइमर के जोखिम को कम करने में भी हल्दी का पानी सहायक हो सकता है। एक रिसर्च में पाया गया है कि हल्दी के करक्यूमिन कंपाउंड में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव होते हैं, जो अल्जाइमर की स्थिति में सुधार करने में सहायक हो सकता है (8)। ध्यान दें कि अल्जाइमर एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है, जिसे मेडिकल ट्रीटमेंट से ही ठीक किया जा सकता है, इसलिए अल्जाइमर के इलाज के लिए हल्दी पर निर्भर रहना सही नहीं है।

7. गठिया और जोड़ों के दर्द को कम करे

गठिया में जोड़ों की सूजन के साथ ही दर्द भी होता है। इस समस्या से राहत पाने में भी हल्दी के पानी का उपयोग फायदेमंद साबित हो सकता है। इस संबंध में हुए एक रिसर्च में पाया गया है कि हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होता है, जिससे गठिया के लक्षण को कम करने में मदद मिल सकती है (9)। ध्यान दें कि समस्या गंभीर होने से पहले ही इस संबंध में डॉक्टर से परामर्श लेना जरूर है।

8. पाचन संबंधी समस्या में

पाचन संबंधी समस्या जैसे कि गैस और अपच, कभी भी और किसी को भी हो सकती है। ऐसे में हल्दी के पानी का उपयोग न सिर्फ गैस और पेट फूलने की परेशानी से राहत दिला सकता है, बल्कि इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम यानी आंतों से जुड़ी परेशानी से भी राहत दिलाने में सहायक हो सकता है (2)। हालांकि, हल्दी का कौन सा गुण इस समस्या में असरदार होता है, यह अभी शोध का विषय है।

9. सूजन में

स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के साथ ही सूजन जैसी परेशानी में भी हल्दी का पानी उपयोगी साबित हो सकता है। एक रिसर्च के अनुसार, हल्दी के एक्टिव कंपाउंड करक्यूमिन में एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है। इस इफेक्ट के कारण सूजन और सूजन संबंधी समस्याओं को कुछ कम करने में मदद मिल सकती है (10)।

10. लिवर संबंधी समस्या के जोखिम

हल्दी के पानी का उपयोग लिवर की समस्या में भी किया जा सकता है। इस विषय पर हुए एक वैज्ञानिक अध्ययन से पता चलता है कि हल्दी में हेपाटोप्रोटेक्टिव प्रभाव होता है। यह इफेक्ट लिवर संबंधी समस्याओं के जोखिम को कम करने में सहायक हो सकता है (2)। एक अन्य रिसर्च में पाया गया है कि हल्दी में मौजूद डिटॉक्सिफिकेशन और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव शरीर में केमिकल के कारण होने वाली लिवर टॉक्सिसिटी यानी विषाक्तता से बचाव में मदद कर सकते हैं (11)।

पढ़ना जारी रखें

आर्टिकल के इस हिस्से में हल्दी का पानी पीने का तरीका जानते हैं।

हल्दी पानी पीने का तरीका

हल्दी पानी को कई तरह से पिया जा सकता है। यहां हम बता रहे हैं हल्दी पानी पीने के तरीकों के बारे में।

  • हल्दी के पानी को चाय के स्थान पर गर्मागर्म सिप-सिप करके पी सकते हैं।
  • इसे रिफ्रेशिंग ड्रिंक में भी मिलाकर पिया जा सकता है।
  • हल्दी के पानी को डॉक्टर की सलाह पर खाली पेट आधा गिलास पी सकते हैं
  • शहद और नींबू डालकर पानी तैयार करें और फिर उसमें एक चुटकी हल्दी मिलाकर सेवन कर सकते हैं।

नीचे स्क्रॉल करें

हल्दी का पानी पीने का तरीका जानने के बाद आगे हल्दी पानी बनाने की विधि पढ़ें।

हल्‍दी पानी बनाने की विधि

हल्दी के पानी को आसानी से घर में बनाया जा सकता है। इसी वजह से आगे हम हल्दी का पानी बनाने की विधि बता रहे हैं।

सामग्री:

  • 1 छोटा चम्मच हल्दी पाउडर
  • एक गिलास पानी

बनाने की तरीका:

  • एक गिलास पानी को गैस पर रख दें।
  • अब इसमें हल्‍दी पाउडर डालें और अच्‍छी तरह मिला लें।
  • स्वाद के लिए इसमें थोड़ा सा दालचीनी पाउडर भी डाल सकते हैं, यह पूरी तरह वैकल्पिक है।
  • जब पानी का रंग पूरी तरह पीला हो जाए, तो उसे गैस से उतार लें।
  • अब गुनगुने पानी को चाय की तरह पी लें।
  • स्वाद के लिए पानी में ऊपर से शहद भी मिलाया जा सकता है।

पढ़ना जारी रखें

आर्टिकल के आखिरी हिस्से में हल्‍दी का पानी पीने के नुकसान पर एक नजर डाल लेते हैं।

हल्‍दी पानी पीने के नुकसान – Side Effects of Drinking Turmeric Water In Hindi

  • हल्दी का पानी सिर्फ फायदेमंद ही नहीं हाेता है, बल्कि इसे पीने से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। इसका अत्यधिक सेवन करने से होने वाले नुकसान कुछ इस प्रकार हैं।
  • अधिक मात्रा में हल्दी के पानी का सेवन करने से हल्दी में मौजूद ऑक्सालेट किडनी स्टोन का कारण बन सकता है (12)।
  • ज्यादा मात्रा में हल्दी के पानी का सेवन गर्भावस्था के दौरान असुरक्षित हो सकता है
  • हल्दी के पानी का अधिक सेवन करने से शरीर में आयरन की कमी होती है, जिससे एनीमिया का खतरा बढ़ सकता है (13)।
  • हल्दी के पानी काे अधिक मात्रा में पीने से उल्टी, दस्त और मतली के साथ रक्तस्राव की समस्या हो सकती है (14)।
  • हल्दी के पानी के सेवन से सिरदर्द और त्वचा पर रैशेज भी हो सकते हैं (6)।
  • हल्दी पानी से स्टूल यानी मल का रंग पीला हो सकता है (6)।

हल्दी पानी के फायदे से जुड़ी तमाम जानकारी हासिल करने के बाद इसे गुणों का खजाना भी कहा जा सकता है। इसके उपयोग से स्वास्थ्य समस्याओं से बचाव होने के साथ ही उसे लक्षणों से राहत मिल सकती है। ध्यान दें कि हल्दी का पानी आयुर्वेदिक औषधि है, जो धीरे-धीरे असर करता है। इसका परिणाम दिखने में थोड़ा समय लग सकता है। बस इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करें, अन्यथा हल्दी पानी के फायदे की जगह नुकसान भी हो सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या मैं रोज हल्दी वाला पानी पी सकता हूं?

हां, हल्दी के पानी के फायदे पाने के लिए डॉक्टर की सलाह पर रोजाना हल्दी के पानी का सेवन किया जा सकता है।

क्या मैं रात को हल्दी वाला पानी पी सकता हूं?

हां, हल्दी का पानी रात को पी सकते हैं। दरअसल, इसमें मौजूद एंटीडिप्रेसेंट प्रभाव अवसाद के कारण होने वाले इंसोमेनिया यानी नींद न आने की समस्या में फायदा हो सकता है (5)।

क्या हल्दी का पानी वजन घटाने के लिए अच्छा है?

हां, हल्दी का पानी पीने से वजन घटाया जा सकता है। इसके लिए हल्दी में मौजूद एंटी ओबेसिटी प्रभाव को मददगार माना जाता है। ध्यान दें कि वजन नियंत्रित करने के लिए हल्दी का पानी पीने के साथ ही सही डाइट और व्यायाम भी जरूरी है (15)।

क्या हल्दी का पानी त्वचा के लिए अच्छा है?

हां, हल्दी का पानी त्वचा के लिए फायदेमंद हो सकता है।

क्या गर्म पानी में हल्दी पीने के फायदे भी हो सकते हैं?

हां, हल्दी गर्म पानी के फायदे हो सकते हैं।

क्या सुबह खाली पेट हल्दी पानी पीने के नुकसान हो सकते हैं?

सुबह खाली पेट हल्दी पानी पीने के नुकसान होते हैं या नहीं यह स्पष्ट नहीं है। माना जाता है कि सीमित मात्रा में इसका सेवन नुकसानदायक नहीं होता है।

References

Articles on thebridalbox are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Curcumin and Diabetes: A Systematic Review,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3857752/
  2. Turmeric, the Golden Spice
    ,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK92752/
  3. Role of Curcumin in Disease Prevention and Treatment,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5852989/
  4. Turmeric (curcumin) remedies gastroprotective action,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3731878/
  5. An Overview of Curcumin in Neurological Disorders,
    Url
  6. Curcumin: A Review of Its’ Effects on Human Health,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5664031/
  7. Alzheimer disease,
    https://medlineplus.gov/ency/article/000760.htm
  8. The effect of curcumin (turmeric) on Alzheimer’s disease: An overview,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2781139/
  9. Efficacy of Turmeric Extracts and Curcumin for Alleviating the Symptoms of Joint Arthritis: A Systematic Review and Meta-Analysis of Randomized Clinical Trials
    ,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5003001/
  10. Mechanism of the Anti-inflammatory Effect of Curcumin: PPAR-γ Activation
    ,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2234255/
  11. Detoxification and antioxidant effects of curcumin in rats experimentally exposed to mercury,
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20229497/
  12. Effect of cinnamon and turmeric on urinary oxalate excretion, plasma lipids, and plasma glucose in healthy subjects,
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18469248/
  13. Iron Deficiency Anemia Due to High-dose Turmeric,
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30899609/
  14. Turmeric,
    https://www.sciencedirect.com/topics/neuroscience/turmeric
  15. Anti-Inflammatory and Anti-Obesity Properties of Food Bioactive Components: Effects on Adipose Tissue,
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5758087/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
Puja Kumari
Puja Kumariहेल्थ एंड वेलनेस राइटर
.

Read full bio of Puja Kumari