Written by , (शिक्षा- बैचलर ऑफ जर्नलिज्म एंड मीडिया कम्युनिकेशन)

चश्मा लगाना कुछ लोगों के लिए फैशन होता है, तो कुछ लोगों के लिए मजबूरी। मजबूरी इसलिए, क्योंकि कई बार खान-पान और बिगड़ी दिनचर्या के कारण नजर कमजोर हो जाती है। ऐसे में चश्मा लगाना मजबूरी हो जाता है। वहीं, कुछ ऐसे भी हैं, जो इस मजबूरी के साथ जन्म से ही बंध जाते हैं। खैर वजह कुछ भी हो, लेकिन चश्मे के निशान के कारण नाक पर निशान पड़ जाते हैं, जो खराब लगते हैं। चश्मे के निशान से निजात पाने के लिए हम स्टाइलक्रेज के इस लेख में चश्मे के निशान के कारण के साथ ही चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय बता रहे हैं। ये उपाय इन दागों से राहत पाने में मददगार साबित हो सकते हैं। वहीं, कुछ लोगों की त्वचा संवेदनशील होती है, तो वो इन घरेलू नुस्खों को प्रयोग करने से पहले त्वचा विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

नीचे है विस्तृत जानकारी

आइए, सबसे पहले चश्मा पहनने पर नाक पर होने वाले दर्द का कारण जान लेते हैं।

चश्मा पहनने की वजह से मेरी नाक क्यों दर्द करती है?

गलत साइज का फ्रेम पहनना नाक के दर्द का सबसे आम कारण हो सकता है। इसके अलावा, लगातार और लंबे समय तक चश्मा पहनने से नाक के ऊपर की त्वचा (जहां पर चश्मे को रुकने सहारा मिलता है) और पेरिकुलर स्किन पर भी दबाव बन सकता है। इस कारण वहां पर निशान बन सकता है (1), जिस कारण नाक में दर्द हो सकता है। इसके अलावा, गलत फ्रेम के कारण निम्न परेशानियां भी हो सकती हैंः

  • नाक के ऊपर दर्द होना : यह तब हो सकता है जब चश्मा नाक के सेंटर पर ठीक से फिट नहीं होता है, जिसका कारण चश्मे का भारी वजन हो सकता है।
  • कान के पीछे दर्द होना : यह तब हो सकता है जब चश्मे का फ्रेम कानों के पीछे तक जाने के लिए बहुत छोटा हो।
  • आंखों पर दबाव के कारण सिरदर्द : यह सबसे आम समस्या हो सकती है। ऐसा तब हो सकता है, जब चश्मे का लेंस आंखों की रोशनी के अनुसार नहीं बनाया गया हो यानी लेंस का नंबर कम या ज्यादा होना।

इस तरह के किसी भी लक्षणों को दूर करने के लिए, हमेशा नेत्र विशेषज्ञ की सलाह पर ही चश्मा पहनना चाहिए। सही लेंस और फ्रेम से इस तरह के लक्षणों से बचाव किया जा सकता है।

पढ़ते रहें यह आर्टिकल

चलिए, अब चश्मे के निशान के कारण के बारे में जान लेते हैं।

चश्मे के निशान के कारण – Causes of Spectacle Marks in Hindi

जहां चश्मे का नोज स्टैंड रुकता है, वहीं पर चश्मे के निशान पड़ सकते हैं। चश्मे के निशान के कारण इन बिंदुओं से समझ सकते हैं:

  • नाक की त्वचा पर दबाव पड़ना : लगातार चश्मा पहनने के कारण चश्मे के निशान हो सकते हैं, क्योंकि चश्मे के स्टैंड से नाक की त्वचा पर दबाव पड़ सकता है। इसके कारण वहां खून का दौरा रुक सकता है और उस जगह की त्वचा डेड हो जाती है, जो चश्मे के निशान के कारण हो सकती है (1)।
  • गलत फ्रेम पहनना : गलत फ्रेम, जैसे साइज में छोटा फ्रेम पहनने से भी नाक पर चश्मे के निशान पड़ सकते हैं।
  • हार्ड नोज पैड : इसे भी नाक पर चश्मे के निशान के कारण में गिना जा सकता है।

नोट: नेत्र विशेषज्ञ से उचित आकार के हल्के और कम दबाव वाले नोज पैड से युक्त चश्मा लें।

आगे है और जानकारी

आगे अब बात करते हैं चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय के बारे में।

चश्मे के निशान हटाने के लिए घरेलू उपाय – Home Remedies for Spectacle Marks in Hindi

यहां बताए गए घरेलू उपाय त्वचा की रंगत को निखारने व दाग-धब्बों को कम करने का काम करते हैं। ये चश्मे के निशान हटाने में कितने कारगर हैं, इस संबंध में वैज्ञानिक शोध की कमी है। हां, पारंपरिक तौर पर इन घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल सदियों से किया जा रहा है।

1. एलोवेरा

सामग्री :

  • एलोवेरा की पत्ती का एक छोटा टुकड़ा

कैसे इस्तेमाल करें :

  • सबसे पहले एलोवेरा की पत्ती को बीच से काट लें।
  • अब उसमें मौजूद गूदे को अलग कर लें।
  • निकाले गए गूदे को नाक के प्रभावित हिस्से पर लगाएं और हल्के हाथों से मसाज करें।
  • इस प्रक्रिया को दिन में करीब एक से दो बार दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय में एलोवेरा का इस्तेमाल कर सकते हैं। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की साइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, एलोवेरा में मॉइस्चराइजिंग और एंटी-एजिंग गुण होते हैं, जो चश्मे के कारण नाक पर बने निशान और सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। साथ ही यह डेड स्किन को हटाने के उपाय के तौर पर काम करके प्रभावित कोशिकाओं को ठीक करने में भी मदद कर सकता है (2)। इस तरह एलोवेरा को चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

2. आलू

सामग्री :

  • एक कच्चा आलू

कैसे इस्तेमाल करें :

  • सबसे पहले आलू को कद्दूकस कर लें।
  • अब किसी सूती कपड़े की सहायता से इसका रस निकालें।
  • फिर निकाले गए आलू के रस को प्रभावित स्किन पर लगाएं और 10 से 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • इसके बाद साफ पानी से इसे धो लें।

कैसे है लाभदायक :

कच्चे आलू के एंजाइम, विटामिन सी और स्टार्च जैसे गुण त्वचा के टिश्यू को उचित पोषण प्रदान करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, आलू के रस के क्षारीय गुण त्वचा पर एंटीसेप्टिक के रूप में कार्य कर सकते हैं, जो त्वचा को चमकदार बनाने में मदद कर सकते हैं (3)। जिसे देखते हुए त्वचा के दाग-धब्बों से छुटकारा पाने के लिए आलू का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस कारण यह माना जा सकता है कि चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय में आलू लाभकारी साबित हो सकता है।

3. खीरा

सामग्री :

  • खीरे के दो छोटे टुकड़े

कैसे इस्तेमाल करें :

  • खीरे के टुकड़े को नाक के प्रभावित स्थान पर हल्के हाथों से रगड़ें।
  • अब इसे 5 से 10 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर चेहरे को साफ पानी से धो लें।
  • इस प्रक्रिया को दिन में करीब दो बार दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

खीरे में त्वचा को ठंडक पहुंचाने वाला प्रभाव पाया जाता है। इसके अलावा, खीरे में स्किन को हाइड्रेट करने के गुण के साथ-साथ विटामिन-के की भी उच्च मात्रा होती है, जिसकी वजह से खीरे का उपयोग स्किन ब्राइटनर के रूप में किया जा सकता है। इसके इन्हीं गुणों के कारण खीरा चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय के तौर पर भी सहायक साबित हो सकता है (4)।

4. नींबू का रस

सामग्री :

  • आधा नींबू
  • एक छोटी कटोरी
  • कॉटन बॉल

कैसे इस्तेमाल करें :

  • सबसे पहले कटोरी में नींबू का रस निकालें।
  • अब उस रस में रूई के टुकड़े को डुबोएं और प्रभावित क्षेत्र पर हल्के हाथ से लगाएं।
  • फिर इसे 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा होने के बाद साफ पानी से उसे धो डालें।
  • इस प्रक्रिया को सुबह नहाने से पहले और रात में सोने से पहले प्रतिदिन दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

एनसीबीआई की साइट पर उपलब्ध एक शोध बताता हैं कि नींबू के रस में ब्लीचिंग के गुण होते हैं। इस वजह से चेहरे पर नींबू के रस का उपयोग करने से त्वचा की रंगत निखारी जा सकती है (5)। साथ ही, नींबू में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन-सी के गुण फ्री रेडिकल्स से लड़ने में त्वचा की मदद कर सकते हैं। इससे त्वचा की रंगत को एक सामान बनाए रखने में भी मदद मिल सकती है (6)। इसी कारण यह माना जा सकता है कि चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय में नींबू का रस लाभकारी हो सकता है।

5. गुलाब जल

सामग्री :

  • दो से तीन बूंद गुलाब जल
  • कॉटन बॉल

कैसे इस्तेमाल करें :

  • रूई के टुकड़े में गुलाब जल की दो से तीन बूंदें लें।
  • अब इसे नाक के प्रभावित क्षेत्र पर अच्छे से लगाएं।
  • फिर इसे ऐसे ही छोड़ दें।
  • इस प्रक्रिया को सुबह नहाने के बाद और रात को सोने से पहले दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

गुलाब जल का उपयोग करने से भी त्वचा की कई समस्याओं को दूर किया जा सकता है। दरअसल, मौजूद शोधों से पता चलता है कि गुलाब की पंखुड़ियों के रस में एथिल एसीटेट और एंटी-टायरोसिनेस गुण होते हैं। इसके यह गुण फ्री रेडिकल्स को खत्म करने और मेलेनिन से संबंधित समस्याओं जैसे पिगमेंटेशन की समस्या कम करने में मदद कर सकते हैं (7)। इस आधार पर इसका इस्तेमाल करना चश्मे के निशान को कम करने में मददगार साबित हो सकता है।

6. शहद

सामग्री :

  • एक चम्मच शहद
  • एक चम्मच दूध

कैसे इस्तेमाल करें :

  • किसी बर्तन में शहद और दूध को मिक्स करें।
  • अब इस मिक्सचर को प्रभावित स्किन पर लगाएं और 15  मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर साफ पानी से धो लें।
  • इस प्रक्रिया को प्रतिदिन एक से दो बार दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

अध्ययनों से पता चला है कि त्वचा के लिए शहद का उपयोग करना कई तरह से लाभकारी हो सकता है, क्योंकि शहद में एंटीसेप्टिक और एंटीमाइक्रोबियल जैसे गुण होते हैं। ये गुण त्वचा के घावों को अंदर से भरने और मॉइस्चराइजिंग करने में मदद कर सकते हैं। साथ ही, इसमें डिहाइड्रेशन की समस्या को दूर करने और त्वचा के पीएच स्तर को नियंत्रित करने के भी गुण हो सकते हैं, जो त्वचा से संबंधित कई परेशानियों को दूर करने में मदद कर सकते हैं (8)। इस कारण यह माना जा सकता है कि चश्मे के निशान से निजात के लिए शहद का इस्तेमाल करना फायदेमंद हो सकता है।

7. संतरे का छिलका

सामग्री :

  • दो चम्मच संतरे के सूखे छिलके का पाउडर
  • एक चम्मच दूध

कैसे इस्तेमाल करें :

  • संतरे के छिलके के पाउडर को दूध में मिलाकर पेस्ट बनाएं।
  • अब इस पेस्ट को नाक के प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा हो जाने के बाद साफ पानी से इसे धो लें।
  • इस प्रक्रिया को दाग जाने तक रोज एक बार दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

संतरे के छिलके का फेस पैक भी चेहरे के निशान से निजात दिला सकते हैं। क्योंकि इसमें पॉलीमेथोक्सीफ्लेवोन (पीएमएफ) पाया जाता है। पीएमएफ मुख्य रूप से साइट्रस पौधों में पाया जाने वाला फ्लेवोनॉयड यौगिकों का एक समूह होता है। पीएमएफ त्वचा में मेलेनिन के उत्पादन को नियंत्रित कर सकता है। इससे त्वचा की रंगत बेहतर हो सकती है। साथ ही यह गुण चेहरे पर मौजूद दाग-धब्बों को दूर करने में मदद कर सकता है (9)।

8. टमाटर

सामग्री :

  • टमाटर के दो टुकड़े

कैसे इस्तेमाल करें :

  • टमाटर के टुकड़े को लेकर नाक के प्रभावित क्षेत्र पर कुछ देर रगड़ें।
  • फिर इसे 10 से 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • समय पूरा होने के बाद इसे साफ पानी से धो डालें।
  • इस प्रक्रिया को दिन में करीब एक से दो बार दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

टमाटर में लाइकोपीन एक कैरोटीनॉयड के तौर पर होता है। इसमें फ्लेवोनोइड्स और विटामिन-सी व ई जैसे बॉयोएक्टिव कंपाउंड्स पाए जा सकते हैं (10)। इनके एंटीऑक्सीडेंट और क्लीनिंज गुण त्वचा को चिकना और चमकदार बनाने में मदद कर सकते हैं (11)। साथ ही, एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफोर्मेशन) पर मौजूद एक शोध के मुताबिक, टमाटर में पाया जाना वाला लाइकोपीन सूर्य की हानिकारण अल्ट्रा वायलेट (यूवी) किरणों से होने वाले सन बर्न का उपचार करने में मददगार हो सकता है (12)। इस कारण यह माना जा सकता है कि टमाटर का इस्तेमाल चश्मे के निशान के कारण बनने वाले दाग से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित हो सकता है।

9. बादाम तेल की मालिश

सामग्री :

  • दो से तीन बूंद बादाम तेल

कैसे इस्तेमाल करें :

  • बादाम तेल की कुछ बूंदें लेकर अपनी उंगलियों से नाक की हल्की मसाज करें।
  • उसके बाद इसे रात भर के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • सुबह उठकर साफ पानी से चेहरे को धो लें।
  • इस प्रक्रिया को हफ्ते में दो बार दोहरा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

आयुर्वेदिक से लेकर चीनी चिकित्सा में भी बादाम तेल के फायदे की बात की जाती है। कुछ अध्ययनों के मुताबिक बादाम तेल में चोट के निशानों को दूर करने के गुण हो सकते हैं, जो त्वचा को कोमल बनाने और फिर से उनमें नयापन लाने में मदद कर सकते हैं (13)। साथ ही, बादाम के तेल में त्वचा को एमोलिएंट यानी मुलायम करने के गुण होते हैं, जिनका उपयोग करके त्वचा की रंगत को बेहतर बनाया जा सकता है (14)।

10. सेब का सिरका

सामग्री :

  • एक चम्मच सेब का सिरका
  • एक कप पानी
  • कॉटन बॉल

कैसे इस्तेमाल करें :

  • एक कप पानी में सेब का सिरका मिलाएं।
  • अब रूई के टुकड़े को इस मिक्सचर में डुबोकर अपनी नाक पर लगाएं।
  • फिर इसे 10 से 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर चेहरे को पानी से धो लें।
  • रोज रात सोने से पहले इस घरेलू उपचार को इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

अक्सर लोग बालों से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए सेब के सिरका का उपयोग करना लाभकारी मानते हैं। साथ ही त्वचा से जुड़ी कई समस्याओं के उपचार में भी यह लाभकारी माना जा सकता है, क्योंकि सेब के सिरके में अल्फा हाइड्रॉक्सिल एसिड की मात्रा होती है। यह एसिड त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाकर स्वस्थ कोशिकाओं का उत्पादन करने में मदद कर सकता है। साथ ही यह त्वचा के रोम छिद्रों को बैक्टीरिया, तेल और धूल के हानिकारक प्रभावों से भी बचा भी सकता है और त्वचा को आराम पहुंचाकर उसे मुलायम बनाए रखने में मदद कर सकता है (6)। इस लिहाज से यह त्वचा पर दाग-धब्बे दूर करने में मदद कर सकता है और चश्मे के निशान छुड़ाने के घरेलू उपाय में इसे शामिल किया जा सकता है।

बने रहें हमारे साथ

लेख के अगले भाग में हम चश्मे के निशान से बचाव के कुछ उपाय बताएंगे।

चश्मे के निशान से बचाव  – Prevention Tips for Spectacle Marks in Hindi

चश्मे के निशान से बचाव के लिए आपको निम्न बातों का खास ध्यान रखना चाहिए, जैसेः

  • चश्मे का इस्तेमाल करने से पहले एक बार उसे अच्छे से साफ करें। चश्मे का लेंस साफ करने के लिए कॉटन या सॉफ्ट फैब्रिक का ही इस्तेमाल करें, ताकि लेंस पर किसी तरह की खरोंच न लगे।
  • अगर चश्मा पुराना होने की वजह से टाइट महसूस हो रहा है, तो उसे तुरंत बदल लें।
  • अगर चश्मे के नोज पैड नाक पर अधिक दबाव डाल रहे हैं, तो उन्हें बदलने के बारे में विचार करें।
  • हमेशा हल्के और आरामदायक फ्रेम का चुनाव करें।
  • ज्यादा मोटे लेंस की वजह से पिगमेंटेशन मार्क्‍स नाक पर हो सकते हैं, इसलिए कोशिश करें कि पतले लेंस और लाइटवेट फ्रेम व फिटिंग ग्‍लासेस ही पहनें।
  • जब पसीना आ रहा हो, तो चश्मा हटा दें या पसीना पोंछते रहें।
  • प्रभावित स्किन को मॉइस्चराइज करते रहें।
  • चश्मे को थोड़ी-थोड़ी देर में हटा दें, जिससे त्वचा में खून का दौरा बना रहे।
  • हमेशा किसी अच्छे नेत्र विशेषज्ञ की सलाह पर ही चश्मे का चुनाव करें। गलत लेंस और फ्रेम का चुनाव आंखों पर अधिक दबाव पड़ने का कारण बन सकता है।

यह तो स्पष्ट हो गया कि लगातार चश्मे के निशान के कारण क्या हो सकते हैं। इसलिए, अब जब भी चश्मा पहनेंगे, तो चश्मे के निशान से बचाव संबंधी बातों को ध्यान में जरूर रखें। इसके बावजूद अगर नाक पर निशान पड़ जाते हैं, तो फिर लेख में सुझाए गए चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय काफी हद तक मदद कर सकते हैं। फिर भी हम यह सुझाव देंगे कि चश्मे के निशान को हटाने के घरेलू उपाय अपनाने से पहले एक बार अपने नेत्र और त्वचा विशेषज्ञ से जरूर संपर्क करें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

नाक पर चश्मे के निशान हटाने के लिए सबसे अच्छी क्रीम कौन-सी है?

जैसा कि लेख में बताया गया है कि चश्मे के निशान को हटाने के एलोवेरा का इस्तेमाल करना लाभकारी साबित हो सकता है (15)। ऐसे में आप एलोवेरा युक्त हाइड्रोक्विनोन क्रीम का चुनाव कर सकते हैं, जो त्वचा की रंगत को हल्का करने और पिगमेंटेशन के निशान दूर करने में मदद कर सकता है (16)। ध्यान रहे कि किसी भी क्रीम का इस्तेमाल त्वचा विशेषज्ञ से पूछकर ही करना चाहिए।

क्या चश्मे के निशान उम्र भर रह सकते हैं?

नहीं, चश्मे के निशान को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। ये स्थायी नहीं होते हैं। अगर लेख में बताए गए चश्मे के निशान छुड़ाने के घरेलू उपाय अपनाते हैं और स्किन विशेषज्ञ की उचित सलाह लेते हैं, तो कुछ ही हफ्तों में चश्मे के निशान से छुटकारा पा सकते हैं।

मेकअप अप्लाई करने के बाद नाक पर चश्मे के निशान होने से कैसे बचाव करें?

मेकअप के साथ चश्मा पहनना एक बड़ा टास्क हो सकता है। ऐसे में चश्मा बार-बार फिसलने लग सकता है। इसे रोकने के लिए सबसे पहले नाक पर प्राइमर लगाएं, ताकि फ्रेम नाक से न फिसले। फिर नोज पैड पर हल्का प्राइमर अप्लाई करें, ताकि नोज की स्किन पर लगा प्राइमर फ्रेम में न लग जाए। ऐसा करने से चश्मा भी नहीं फिसलेगा और नाक पर लगा मेकअप भी रिमूव नहीं होगा।

क्या नाक पर चश्मे के निशान दूर हो सकते हैं?

हां, नाक पर चश्मे के निशान दूर हो सकते हैं। बस इसके लिए चश्मे के सही फ्रेम, नोज पैड और सही साइज के फ्रेम का इस्तेमाल करें। साथ ही समय-समय पर लेख में ऊपर बताए गए घरेलू नुस्खें भी इस्तेमाल करें।

References

Articles on thebridalbox are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Glasses: Hiding or causing skin cancer?
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27541940/
  2. ALOE VERA: A SHORT REVIEW
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/
  3. Health Benefits and Cons of Solanum tuberosum
    https://www.plantsjournal.com/vol1Issue1/Issue_jan_2013/3.pdf
  4. EVALUATING THE POTENTIAL BENEFITS OF CUCUMBERS FOR IMPROVED HEALTH AND SKIN CARE
    https://www.academia.edu/28634174/EVALUATING_THE_POTENTIAL_BENEFITS_OF_CUCUMBERS_FOR_IMPROVED_HEALTH_AND_SKIN_CARE
  5. The Hunt for Natural Skin Whitening Agents
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2801997/
  6. Formulation and evaluation of herbal face mist
    http://www.jipbs.com/VolumeArticles/FullTextPDF/471_JIPBSV7I102.pdf
  7. ANTITYROSINASE ACTIVITY AND ANTIOXIDANT ACTIVITY OF SANTALUM ALBUM & ROSA BRACTEATAE PLANT EXTRACTS FOR SKIN WHITENING ASSAY
    https://storage.googleapis.com/journal-uploads/ejbps/article_issue/volume_5_august_issue_8/1533021626.pdf
  8. Medicinal and cosmetic uses of Bee’s Honey – A review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3611628/
  9. A polymethoxyflavone mixture extracted from orange peels, mainly containing nobiletin, 3,3′,4′,5,6,7,8-heptamethoxyflavone and tangeretin, suppresses melanogenesis through the acidification of cell organelles, including melanosomes
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28629701/
  10. Antioxidative properties of lycopene and other carotenoids from tomatoes: synergistic effects
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15630198/
  11. Skin care with harbels Exfoliants
    http://www.globalsciencebooks.info/Online/GSBOnline/images/2011/FPSB_5(SI1)/FPSB_5(SI1)94-97o.pdf
  12. An Update on the Health Effects of Tomato Lycopene
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3850026/#R8
  13. The uses and properties of almond oil
    https://www.sciencedirect.com/science/article/abs/pii/S1744388109000772
  14. Anti-Inflammatory and Skin Barrier Repair Effects of Topical Application of Some Plant Oils
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5796020/
  15. ALOE VERA: A SHORT REVIEW
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/
  16. Hydroquinone
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK539693/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
Saral Jain
Saral Jainहेल्थ एंड वेलनेस राइटर
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ.

Read full bio of Saral Jain