Written by

शिशुओं की कुछ हरकतें देखने में बहुत प्यारी लगती है। हालांकि, उनमें से कुछ ऐसी भी होती हैं, जिन्हें लेकर माता-पिता को चिंता रहती है कि कहीं उनकी ये हरकत आदत न बन जाए। हेयर पुलिंग यानी बाल खींचना भी उन्हीं में से एक है। यही वजह है कि मॉमजंक्शन के इस लेख में हम शिशुओं में बाल खींचने की आदत को रोकने के टिप्स लेकर आए हैं। इसके साथ ही हम यह भी समझाएंगे कि आखिर शिशु किन कारणों से बाल खींचते हैं।

लेख की शुरुआत हम इसी सवाल से करते हैं कि शिशुओं को बाल खींचने की आदत क्यों होती है।

छोटे बच्चों में बाल खींचने की आदत क्यों होती हैं?

कई छोटे बच्चों को बाल खींचते देखा जा सकता है। वैज्ञानिक भाषा में इसे ट्रिकोटिलोमेनिया (Trichotillomania ) के नाम से जाना जाता है। यह समस्या छोटे बच्चों में अधिक देखी जाती है। मुख्यतौर पर पर्यावरण और आनुवंशिक दोनों कारणों को इसके पीछे जिम्मेदार माना जाता है। हालांकि, कुछ और कारण भी हैं, जिस जिस वजह से बच्चे बाल खींच सकते हैं (1) :

  • छोटे बच्चों में यह समस्या आदतन व्यवहार (जैसे अंगूठा चूसना) से जुड़ी हो सकती है।
  • सेरोटोनिन की कमी। बता दें कि सेरोटोनिन एक प्रकार का हार्मोन है जो इंसान के मूड को खुश रखता है। इसकी कमी के कारण मन उदास हो सकता है।
  • मस्तिष्क संबंधी समस्याओं की वजह से।
  • असामान्य मस्तिष्क चयापचय के कारण।
  • ओसीडी यानी ऑब्सेसिव कम्पलसिव डिसऑर्डर। यह एक ऐसी समस्या है, जिसमें इंसान एक ही चीज को बार-बार दोहराता है।

इसके अलावा, बच्चों के बाल खींचने के पीछे कुछ अन्य कारण भी होते हैं (2):

  • अगर बच्चा पहली बार स्कूल जा रहा हो।
  • बच्चे का रिजल्ट अगर खराब हो।
  • कुछ बच्चे बदमाशी करते समय भी बाल खींच सकते हैं।
  • इसके अलावा, शिक्षक के साथ बच्चे की तनावपूर्ण स्थिति के कारण भी बच्चे बालों को खींच सकते हैं।
  • कभी-कभी बच्चे पेरेंट्स का ध्यान आकर्षित करने के लिए बाल खींच सकते हैं।
  • कुछ मामलों में तनाव को भी बच्चों के बाल खींचने से जोड़ा गया है। यही नहीं, कभी-कभी बच्चे जब आरामदायक अवस्था में रहते हैं तो ऐसी स्थिति में भी बाल खींच सकते हैं।
  • इसके अलावा, चिड़चिड़ा होने के कारण भी शिशु अपने बाल खींच सकता है।

अब जरा, बच्चों को बाल खींचने से रोकने के कुछ टिप्स जान लीजिए।

शिशुओं में बाल खींचने की आदत को कैसे रोकें ?

कुछ विशेष बातों का ध्यान रखकर शिशुओं को बाल खींचने से रोका जा सकता है। इसलिए, यहां हम कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए हैं जिनकी मदद से शिशुओं में बाल खींचने की आदत को रोका जा सकता है :

  1. ध्यान भटकाएं – छोटे बच्चे बाल न खींचे इसके लिए सबसे आसान तरीका है कि उसका ध्यान भटकाएं। अगर बच्चे को दूसरे कामों में लगा देंगे तो वे बाल खींचना भूल जाएंगे। इसके लिए बच्चों को खिलौने या फिर कुछ खाने की चीज दे सकते हैं, जिसमें उनका मन लगे (3)।
  1. संयम से काम लें- कभी-कभी बच्चों का बाल खींचना माता-पिता को परेशान कर सकता है और वे उन्हें डांटने लगते हैं। ऐसा करने से बच्चे डर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि माता-पिता संयम से काम लें और प्यार से बच्चे को समझाएं कि बाल नहीं खींचे।
  1. ‘ना’ का मतलब समझाएं- अगर बच्चा बार-बार बाल खींचता है तो उसे इसके लिए माना करते हुए समझाएं कि उन्हें ‘न’ क्यों  कहा गया है। बाल खींचने से क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं। साथ ही बताएं कि यह दर्द दे सकता है।
  1. दृढ़ रहें- बच्चों की बाल खींचने की आदत एक दिन में नहीं जाने वाली। इसे छुड़ाने में थोड़ा समय लग सकता है। इसलिए माता-पिता को पूरी दृढ़ के साथ बच्चों की इस बुरी आदत को रोकने के लिए कोशिश करनी होगी। उन्हें धैर्य रखते हुए रोजाना बच्चे को इसके लिए मना करना होगा।
  1. प्रतिक्रिया न दें- कई बार ऐसा भी हो सकता है कि बच्चे महज माता-पिता का ध्यान अपनी तरफ करने के लिए बाल खींच सकते हैं। ऐसी स्थिति में माता-पिता के लिए जरूरी है कि वे उसे किसी प्रकार की प्रतिक्रिया न दें। जब बच्चे को कोई प्रतिक्रिया ही नहीं मिलेगी तो धीरे-धीरे करके उस आदत को छोड़ देगा।
  1. बाल छोटे कर दें- बच्चों को बाल खींचने से रोकने के लिए एक तरीका यह भी है कि उसके बाल ही छोटे कर दिए जाएं। इसे बाल उनकी मुठ्ठी में नहीं आएंगे और वह बाल नहीं खींच सकेंगे।
  1. सही-गलत का मतलब समझाएं- अगर बच्चा बार-बार बाल खींचता है तो तुरंत उसका हाथ वहां से हटा दें। इसके जगह उसके हथेली को अपने गाल या फिर अपने हाथों में डालें और उसे प्यार से पुचकारें। ऐसा करने से बच्चा आपकी भावनाओं को समझेगा और उसे पता चल सकेगा कि बाल खींचना गलत है तभी उसके हाथ वहां से हटा दिए जा रहे हैं।
  1. थोड़ी सख्ती करें- अगर बच्चा प्यार से समझाने पर भी बाल खींचने की आदत नहीं छोड़ता है तो फिर उसके साथ थोड़ी सख्ती अपनाई जा सकती है। इसके लिए उसे छोटी मोटी सजा दी जा सकती है, जैसे कुछ देर के लिए उसके हाथ को पॉकेट में डाल सकते हैं, या उन्हें उनके पसंदीदा खिलौनों न दें आदि । ध्यान रहें कि बच्चों के साथ अधिक सख्ती न बरतें, इससे बच्चे पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

शिशुओं में बाल खींचने की आदत सामान्य है। इसके लिए लेख में हमने कुछ ऐसे टिप्स भी बताए हैं, जिनकी मदद से बच्चों के इस आदत को छुड़ाया जा सकता है। हालांकि, इन उपायों को अपनाने के बाद भी बच्चा अगर इस आदत को नहीं छोड़ता है, तो माता-पिता को इसे गंभीरता के साथ लेने की जरूरत है। ऐसी स्थिति में बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

References

  1. Trichotillomania
    https://www.ijsr.net/archive/v6i1/ART20163847.pdf
  2. Trichotillomania in Children
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4857813/
  3. Optimizing psychological interventions for trichotillomania (hair-pulling disorder): an update on current empirical status
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4396507/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown